गुरुवार, 11 अप्रैल 2013

नव संवत्सर की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें !!

पेड़ पौधे और पूरा वनस्पति जगत जब प्रफ्फुलित सा रहता है ! पतझड़ निकल जाता है और पेड़ों पर नए पते निकल आते हैं ! खेतों में फसल पकने का समय होता है और कृषि प्रधान देश में इससे ज्यादा उत्सव का माहौल क्या हो सकता है ! एक तरफ किसान फसल पकने और कटने पर प्रफुल्लित रहते हैं और दूसरी और पृकृति अपने पूर्ण सोंदर्य से सराबोर रहती है ! और भारतीय संस्कृति तो पृकृति के साथ अटूट रिश्ते से जुडी हुयी है ! ऐसे ही उमंगो और प्रफ्फुलता से भरे हुए समय में हमारा नववर्ष आता है ! और उसी दिन से माँ दुर्गा के नवरात्र शुरू होते हैं जिससे नववर्ष का शुभारंभ भी आध्यात्मिकता के साथ शुरू होता है ! नववर्ष की इस भक्तिभावनी शुरुआत के साथ ही आप सबको मेरी तरफ से नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई तथा बुजुर्गवरों को सादर प्रणाम !!

कुछ लोग इस दिन को निराशा का कारण बना लेते हैं और अंग्रेजी नववर्ष के साथ जोड़कर देखतें हैं और वो यह मानते हैं की अंग्रेजी नववर्ष मनाने को लेकर जो उत्साह दिखाई देता है वो भारतीय नववर्ष को मनाने में नहीं दिखाई देता है ! लेकिन उनको ये समझना चाहिए की जिनकी जैसी संस्कृति होती है उसी के अनुसार उनके उत्सव होते हैं ! शराब पीकर नववर्ष मनाना अंग्रेजों की संस्कृति के अनुरूप है और अंग्रेजी मानसिकता से ग्रसित लोग उसको उस तरीके से शराब और हुडदंग करके मनाते हैं ! और भारतीय संस्कृति आध्यात्मिकता से परिपूर्ण है इसलिए हम इसको माँ दुर्गा की भक्तिभाव से पूजा करके शान्ति से मनाते हैं ! अब ये तो संस्कृतियों के प्रभाव का नतीजा है लेकिन हम उनके लिए अपनें को नववर्ष के शुभ अवसर पर अपने मन में निराशा को क्यों हावी होने देते हैं !


यह सोचना गलत है की जो लोग अंग्रेजी नववर्ष मनाते हैं वो भारतीय नववर्ष को नहीं मनाते है ! भारतीय नववर्ष को मनाने का तरीका आध्यत्मिक है और नववर्ष और नवरात्र की स्थापना और माँ दुर्गा के पूजन को अलग अलग नहीं माना जा सकता क्योंकि दोनों एक दूसरे से जुड़े हुए हैं ! और नवरात्र को माँ दुर्गा की पूजा हर हिंदू के घर में की जाती है इसलिए हर घर में नववर्ष भी मनाता है ! इसलिए यह सोचकर की हमारे नववर्ष पर वो उत्साह नहीं रहता है जो अंग्रेजी नववर्ष पर होता है ! अंग्रेजी नववर्ष तो पतझड़ के मौसम में और ठिठुरती हुयी सर्दी में आता है लेकिन हमारे नववर्ष पर तो इंसानों के उत्साह की बात तो छोड़ दीजिए बल्कि खुद पृकृति भी उत्सायित और उमंगित रहती है ! 

25 टिप्‍पणियां :

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. happy navratra & navsamvatsar-2070..नवसम्वतसर-२०७० की हार्दिक शुभकामनाएँ...!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. नवरात्र एवं नव संवत्सर की आपको भी हार्दिक शुभकामनाएँ।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  4. चैत्र मॉस का प्रथम दिन ,चैत्र नवरात्रा का आरम्भ भी ,ब्रह्मा द्वारा सृष्टि की स्थापना कादिवास भी आज ही है .

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  5. आप को नवरात्रि की शुभकामनाएं।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  6. उत्तर
    1. आपके लिए भी नववर्ष उमंगो और खुशियों को प्रदान करने वाला है !!
      हार्दिक आभार !!

      हटाएं
  7. नववर्ष और नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाए.......!!!!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !!
      आभार !!

      हटाएं
  8. सार्थक लेख....
    आपको भी नव संवत्सर की शुभकामनाएं....

    अनु

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  9. उत्तर
    1. नववर्ष आपके लिए भी मंगलमय हो !!
      हार्दिक आभार !!

      हटाएं
  10. नव संवत्सर कि हार्दिक बधाई
    http://guzarish66.blogspot.in/2013/04/1.html

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं

अपनी राय देने के लिए धन्यवाद !!